Home नरेंद्र मोदी विशेष कर्नाटक में सिद्धारमैया नहीं ‘सीधा रुपैया’ वाली सरकार चल रही है: प्रधानमंत्री...

कर्नाटक में सिद्धारमैया नहीं ‘सीधा रुपैया’ वाली सरकार चल रही है: प्रधानमंत्री मोदी

162
SHARE

कर्नाटक के दावणगेरे में हुई किसान रैली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राज्य के किसानों की बदहाली के लिए राज्य की सिदधारमैया सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में सिद्धामैया की सरकार चल रही है लेकिन हकीकत में यहां ‘सीधा रुपैया’ की सरकार चल रही है। हर चीज में सीधा रुपैया होता है तभी काम होता है। प्रधानमंत्री ने रैली में आए किसानों से पूछा कि ‘सीधा रुपैया’ वाला कल्चर चाहिए क्या, ये ‘सीधा रुपैया’ से न्याय मिलेगा क्या। इसलिए, अब ये ‘सीधा रुपैया’ जाना चाहिए, अब कर्नाटक के लोगों को काम करने वाली सरकार चाहिए।

पड़े हुए हैं कर्नाटक को मिले केंद्र के पैसे

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत सरकार ने कितना धन मौजूदा कर्नाटक सरकार को दिया है लेकिन जमीन पर पैसा नजर नहीं आता। उन्होंने कहा कि केंद्र की मौजूदा सरकार से कर्नाटक को अभी 2 लाख करोड़ रुपये मिलते हैं लेकिन यहां की राज्य सरकार पैसों को खर्च नहीं कर पा रही है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की अलग-अलग योजनाओं के लिए पैसे दिए जाने के बावजूद 500 करोड़ रुपये बिना खर्च के ऐसे ही पड़े हैं। वहीं, भारत सरकार के सर्वशिक्षा अभियान से जुड़े 400 करोड़ रुपये भी बिना खर्च हुए पड़े हुए हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि कर्नाटक को स्मार्ट सिटी के लिए दिए गए 300 करोड़ रुपये भी पड़े हुए हैं तो स्वच्छ भारत के प्रति भी उदासीनता दिख रही है और इसके तहत मिले 75 करोड़ भी खर्च नहीं किए गए हैं।

दान के एक-एक मुट्ठी चावल से होगा नए कर्नाटक का निर्माण

दावणगेरे की किसान रैली कर्नाटक बीजेपी के अध्यक्ष और पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा के 75वें जन्मदिन पर आयोजित की गई थी। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस मौके पर शुरू किए गए अभियान में दान में दिए जाने वाले मुट्ठी भर चावल एक नए कर्नाटक की रचना करेगा। इस दौरान प्रधानमंत्री ने गुजरात में सरदार वल्लभभाई पटेल के स्टैच्यू यानि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के निर्माण के लिए किसानों के योगदान का भी उल्लेख किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए जब उन्होंने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के लिए देश के किसानों से खेत जोतने वाला लोहा दान में देने को कहा था तो किसानों ने उनकी अपील को हाथों-हाथ लिया था। किसानों के दिए लोहे को मेल्ट करके उसका उपयोग आज सरदार वल्लभभाई पटेल के स्टैच्यू बनाने में हो रहा है, जो दुनिया का सबसे ऊंचा स्टैच्यू होगा।   

किसानों की आय दोगुनी करने की ओर बढ़ रहे कदम

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि उनकी सरकार देश की आजादी के 75 साल पूरे होने पर किसानों की आय डबल करने के सपने को साकार करने की ओर बढ़ रही है। कर्नाटक के दावणगेरे में हुई किसान रैली में उन्होंने कहा कि सरकार इस दिशा में वैज्ञानिक तरीके से आगे बढ़ रही है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज सॉयल हेल्थ कार्ड योजना से किसानों को पता चलने लगा है कि किस पैदावार के लिए उनकी जमीन काम आएगी या फिर उसे किस दवाई की जरूरत है। सॉयल हेल्थ कार्ड के जरिये किसानों के पैसे की बर्बादी रुकी है और उनका पैसा अब सही उपज पैदा करने पर ही खर्च हो रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि किसानों के जीवन में बेहतरी लाने के उद्देश्य से ही सरकार ने बजट में ये प्रावधान किया है कि किसानों को फसल पर उनकी लागत का डेढ़ गुना पैसा मिले।

कर्नाटक को फसल बीमा के 11,000 करोड़ का भुगतान

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार लगातार इस दिशा में काम कर रही है कि अलग-अलग कारणों से परेशानियां झेलने वाले देश के किसानों को कैसे अधिकतम सुरक्षा प्रदान की जा सकती है। उन्होंने कहा कि स्थिति कुछ ऐसी है कि हमारे देश में किसान फसल ज्यादा हो तो भी परेशान होते हैं और कम हो तो भी परेशान होते हैं, प्राकृतिक आपदा भी उनके लिए परेशानी का कारण बनती है और वे ऊपर वाले की मेहरबानी पर जिंदगी गुजारते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा इसके लिए किसानों को जिस तरह की सुरक्षा की आवश्यकता थी,मौजूदा सरकार वही सुरक्षा लेकर सामने आई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत सरकार ने किसी भी तरह के नुकसान की स्थिति में किसानों की भरपाई को सुनिश्चित करने का काम किया है। इस बीमा योजना में किसान की फसल तैयार होने के बाद खेत से बाजार जाने के बीच में भी अगर फसल बर्बाद हो गई तो उसके लिए भी बीमा देने की योजना है और बुवाई के बाद बारिश नहीं होने से हुए नुकसान की स्थिति में भी मुआवजे का प्रावधान है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अकेले कर्नाटक के किसानों को इस बीमा योजना के तहत 11,000 करोड़ रुपये के भुगतान किए गए हैं।

केंद्र का किसान हित की योजनाओं पर जोर

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि किसानों को फसल का पूरा दाम मिले, इसलिए मौजूदा सरकार हर तरह के किसान हितैषी उपायों पर बल दे रही है। इनमें कोल्ड स्टोरेज को बढ़ावा देने के साथ ही e-NAM जैसी योजनाएं शामिल  हैं। किसान को फसल का पूरा दाम मिले, इसलिए उनकी सरकार फसलों के Value addition पर भी काम कर रही है, ताकि किसानों को फल, दूध और सब्जी जैसी वस्तुओं पर भी ज्यादा पैसा मिल सके। उन्होंने कहा कि ऑपरेशन ग्रीन्स से TOP यानि Tomato-Onion और Potato की पैदावार करने वाले किसानों को अच्छा लाभ हासिल हो सकेगा।

48 महीनों में बदली देश के किसानों की जिंदगी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मौजूदा सरकार ने 48 महीने के भीतर किसानों की जिंदगी को बदलने का काम किया है। किसानों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि उनकी सरकार इस नतीजे पर पहुंची है कि भारत का भाग्य बदलना है तो भारत के गांवों का भाग्य बदलना होगा, भारत के किसानों का भाग्य बदलना होगा। उन्होंने कहा कि यही कारण है कि मौजूदा सरकार की हर योजना के केंद्र में किसानों के कल्याण और कृषि के विकास का मुद्दा शामिल होता है।

कर्नाटक की ताकत बढ़ेगी तो देश आगे बढ़ेगा

प्रधानमंत्री ने इस मौके पर केंद्र की ओर से कर्नाटक में चलने वाली योजनाओं का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में केंद्र के 21,400 करोड़ के कई प्रोजेक्ट आज कार्यरत हैं। इनमें 1000 करोड़ रुपये की लागत वाला दावणगेरे-चित्रदुर्ग नेशनल हाइवे प्रोजेक्ट भी शामिल है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कर्नाटक के लोग अच्छे, परिश्रमी और देश के लिए कुछ करने के जज्बे से भरे होते हैं और अगर कर्नाटक की ताकत आगे बढ़ेगी तो देश भी आगे बढ़ेगा।

 

 

LEAVE A REPLY