Home विपक्ष विशेष कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी पर कसा शिकंजा, ईडी ने 354 करोड़...

कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी पर कसा शिकंजा, ईडी ने 354 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले में किया अरेस्ट

216
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में जनता की गाढ़ी कमाई को लूटने वाले घोटालेबाजों के खिलाफ शिकंजा कसता जा रहा है। प्रवर्तन निदेशालय ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को गिरफ्तार कर लिया है। रतुल पुरी को 354 करोड़ रुपये के बैंक फ्रॉड केस में गिरफ्तार किया गया। गौरतलब है कि सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया बैंक द्वारा रतुल पुरी के खिलाफ घोटाले की शिकायत दी गयी थी, जिसके बाद सीबीआई ने केस दर्ज किया था। उसके बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मामला दर्ज किया था। सीबीआई ने कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी के अलावा उनके पिता दीपक पुरी और मां नीता पुरी के खिलाफ भी ठगी और जालसाजी का केस दर्ज किया था।

इतना ही नहीं रतुल पुरी की मोजरवेयर कंपनी के अलावा कंपनी के कई अधिकारियों के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है। जाहिर है कि दिल्ली की संसद मार्ग स्थित सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की ब्रांच से 354 करोड़ रुपये के लोन की ठगी मामले में यह कार्रवाई हुई है। इसी 17 अगस्त को बैंक के अधिकारी की शिकायत पर रतुल पुरी के खिलाफ केस दर्ज हुआ था। इसी नए मामले में ईडी ने रतुल पुरी को अरेस्ट किया है।

अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाले में आरोपी रतुल पुरी पर पहले से ही सीबीआई और ईडी की शिकंजा कसता जा रहा था। डालते हैं एक नजर-

रतुल पुरी का 300 करोड़ का बंगला और 284 करोड़ रुपये जब्त
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भ्रष्टाचारियों और घोटालेबाजों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का सिलसिला जारी है। मोदी सरकार की सख्ती के चलते हजारों करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर स्कैम में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमनाथ के भांजे रतुल पुरी पर आयकर विभाग का शिकंजा कसता जा रहा है। पिछले पंद्रह दिनों में आयकर विभाग ने रतुल पुरी पर दूसरी बड़ी कार्रवाई की है। अब आयकर विभाग ने रतुल पुरी और उसके पिता के खिलाफ बेनामी संपत्ति कानून के तहत कार्रवाई की है। इनकम टैक्स विभाग ने रतुल पुरी का 300 करोड़ रुपये का बंगला और करीब 284 करोड़ रुपये की नगदी को जब्त कर लिया है।

आयकर विभाग ने बेनामी संपत्ति लेनदेन अधिनियम के तहत रतुल पुरी और दीपक पुरी की दिल्ली में रामा एडवाइजर्स प्राइवेट लिमिटेड के नाम से पंजीकृत एक अचल संपत्ति सहित कई अन्य संपत्तियों को कुर्क किया है। इसके अलावा आयकर विभाग ने रतुल पुरी और दीपक पुरी की करीब 284 करोड़ रुपये की प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की रकम भी जब्त की है।

 

इससे पहले आयकर विभाग ने 254 करोड़ के बेनामी शेयर जब्त किए थे

आपको बतादें कि करीब दो हफ्ते पहले ही आयकर विभाग ने रतुल पुरी के 254 करोड़ रुपये के बेनामी शेयर जब्त किए थे। इनकम टैक्स विभाग की दिल्ली बेनामी निषेध इकाई ने रतुल पुरी कंपनी समूह से संबंधित नॉन क्यूमुलेटिव कंपलसरी कनवर्टिबल प्रिफेंरेस शेयर्स (सीसीपीएस)/ इक्विटी शेयर्स को अस्थाई रूप से अटैच कर लिया था। ऑप्टिमा इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड द्वारा सीसीपीएस को एफडीआई निवेश के रूप में प्राप्त किया गया था। कमनाथ के भांजे रतुल पुरी ने एचईपीसीएल नामक कंपनी के नाम पर सौर पैनल आयात करने के लिए अधिक चालान बनाए और उसके जरिए 254 करोड़ रुपये कमाए। यह कंपनी दुबई स्थित एक ऑपरेटर की शेल कंपनी है। यह ऑपरेटर अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी चॉपर घोटाले में आरोपी है।

आपके बता दें कि हेलिकॉप्टर घोटाले में रतुल पुरी पर शिकंजा कसता जा रहा है। इससे एक दिन पहले दिल्ली की अदालत ने वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाले से जुड़े धनशोधन मामले में रतुल पुरी को मिले गिरफ्तारी से अंतरिम संरक्षण एक दिन के लिए बढ़ा दिया था। हिंदुस्तान पावर प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के अध्यक्ष पुरी 27 जुलाई को अदालत पहुंचे थे और मामले में अग्रिम जमानत मांगी थी।

अदालत ने उसे 29 जुलाई तक के लिए अंतरिम संरक्षण प्रदान किया था। जाहिर है कि रतुल पुरी हाल में मामले में पूछताछ के लिए प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष पेश हुए थे, जो कि अगस्ता वेस्टलैंड के साथ अब रद्द हो चुके 3,600 करोड़ रुपये के हेलीकॉप्टर सौदे से संबंधित है।

Leave a Reply