Home समाचार हसीना-मोदी ने मुक्तियोद्धाओं को याद किया, बोले मोदी- कुछ को आतंक पसंद...

हसीना-मोदी ने मुक्तियोद्धाओं को याद किया, बोले मोदी- कुछ को आतंक पसंद है

भारत और बांग्लादेश दोनों प्रधानमंत्रियों ने 1971 की लड़ाई में शामिल होने वाले जवानों को श्रद्धांजलि दी।

413
SHARE

भारत और बांग्लादेश दोनों प्रधानमंत्रियों ने 1971 की लड़ाई में शामिल होने वाले जवानों को श्रद्धांजलि दी। जहां बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना ने बांग्लादेश की आजादी में भारतीय सेना की अहम भूमिका को याद किया और आतंकवाद को भारत-बांग्लादेश दोनों देशों के लिए खतरा बताया। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि दोनों देशों के 140 करोड़ लोग एक-दूसरे से दिल से जुड़े हैं। उन्होंने बिना पाकिस्तान का नाम लिए हुए कहा, “… लेकिन कुछ पड़ोसियों को आतंक पसंद है।”

पीएम मोदी ने कहा कि भारत और बांग्लादेश बंगबंधु के बताए रास्ते पर चल रहा है। उन्होंने बांग्लादेश को विकास के रास्ते पर ले जाने की कोशिश की थी। उनके परिवार के 16 लोगों का कत्ल किया गया। लेकिन उनकी बेटी शेख हसीना बांग्लादेश की प्रधानमंत्री हैं। ये सामान्य घटना नहीं है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “बांग्लादेश की लड़ाई में भारतीय फौजियों ने दुनिया के सामने एक मिसाल पेश की। हमारी सेना ने 90 हजार पाक सैनिकों को सुरक्षित जाने दिया, जो दुनिया की एक बड़ी घटना है।”

पीएम मोदी कहा कि मेरा ये स्पष्ट मत है कि मेरे देश के साथ ही भारत का हर पड़ोसी देश विकास के रास्ते पर चल रहा है। स्वार्थी न बनकर हमने पूरे क्षेत्र का भला चाहा है। दुख की बात है कि 2 विचारधाराओं के विपरीत भी साउथ एशिया में एक मानसिकता है, जो आतंकवाद को पाल रही है। पीएम ने कहा कि यह एक ऐसी सोच है जिसका इंसानियत से कोई नाता नहीं है। यह हिंसा और आतंकवाद को मानती है। इसका मकसद आतंक के जरिए आतंक फैलाना है।

प्रधानमंत्री ने बांग्लादेश की लड़ाई में शामिल हुए जवानों के लिए तीन एलान किए

1. मुक्ति योद्धाओं के 10 हजार बच्चों को पढ़ने के लिए स्कॉलरशिप दी जाती है। अगले पांच साल में इस स्कीम का फायदा 10 हजार और बच्चों को दिया जाएगा।
2. मुक्ति योद्धाओं को 5 साल के लिए मल्टीपल एंट्री वीजा सुविधा मिलेगी।
3. मुफ्त इलाज के लिए 100 मुक्तियोद्धाओं को मदद की जाएगी। 

LEAVE A REPLY