Home विपक्ष विशेष कांग्रेस का एक और धोखा है ‘नरम हिन्दुवाद’!

कांग्रेस का एक और धोखा है ‘नरम हिन्दुवाद’!

234
SHARE

सत्ता पर पकड़ को मजबूत बनाये रखने के लिए कांग्रेस पिछले 70 सालों से हर तिकड़म करती आ रही है। धर्म और जाति के आधार पर बंटवारे की राजनीति उसके डीएनए के अनूकूल है, इसलिए इस आसान रास्ते को वह हमेशा से चुनती रही है। दरअसल सबका साथ-सबका विकास की नीति कांग्रेस के डीएनए का अंश कभी नहीं रहा। यही कारण है कि कांग्रेस आज इतिहास के उस पड़ाव पर है, जहां उसे यह तय करना है कि उसकी राजनीति सत्ता के लिए होगी या सबको साथ लेकर सबका विकास करने के लिए होगी। हालांकि, हाल में कांग्रेस के निर्णय बताते हैं कि आज भी कांग्रेस सत्ता के लिए ही राजनीति कर रही है और उसकी राजनीति देश सेवा के लिए नहीं है।

कांग्रेस ने अपने वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल को राय दी है कि वह बाबरी मस्जिद के मुकदमे में सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से सर्वोच्च न्यायालय में वकालत न करें। कांग्रेस की कपिल सिब्बल को दी गई इस राय से साफ होता है कि कांग्रेस अपनी नरम हिन्दुत्ववादी पार्टी की छवि बनाकर बहुसंख्यकों को एक बार फिर धोखा देने की योजना बना चुकी है। 

आइये, आपको बताते हैं कि कांग्रेस ने नरम हिंदूवादी होने का नाटक खेलने के लिए कपिल सिब्बल को यह राय क्यों दी?

कांग्रेस ने किया राम मंदिर के जल्द निर्माण के निर्णय का विरोध– कपिल सिब्बल कांग्रेस के जाने-माने नेता हैं और यूपीए सरकार में कैबिनेट मंत्री के बतौर मानव संसाधन मंत्रालय में काम कर चुके हैं। कपिल सिब्बल पार्टी की तरफ से हर महत्वपूर्ण मामलों पर जनता के सामने राय रखते हैं। यही कपिल सिब्बल हैं जिन्होंने गुजरात चुनाव के पहले पटेलों को आरक्षण देने के लिए हार्दिक पटेल के साथ बातचीत करके फार्मूला निकालने का महत्वपूर्ण काम पार्टी के लिए किया था। पार्टी के ऐसे महत्वपूर्ण नेता हैं जो सर्वोच्च न्यायालय में बाबरी मस्जिद मंदिर पर चल रही सुनवाई के दौरान मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा को महा विपत्ति की आशंका जताते हुए, इस मुकदमे की सुनवाई को मई 2019 के बाद शुरू करने का दबाव बनाते हैं।
06 दिसंबर 2017 को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से कपिल सिब्बल वकालत तो कर रहे थे, लेकिन  दलीलें कांग्रेस पार्टी की नीतियों के तहत दे रहे थे।

हालांकि सुन्नी वक्फ बोर्ड के हाजी महबूब ने कपिल सिब्बल की इस दलील को उनका राजनीतिक दांव पेंच बताया। सुन्नी वक्फ बोर्ड के हाजी महबूब ने मीडिया से कहा-

कांग्रेस ने‘तीन तलाक’ पर संविधान का किया विरोध – कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने सर्वोच्च न्यायालय में तीन तलाक को सही ठहराने के लिए ऑल इंडिया पर्सनल ला बोर्ड की तरफ से वकालत की। तीन तलाक को रद्द किये जाने को गैर संवैधानिक बताते हुए, इसे आस्था से जोड़ कर, न्यायाधीश के सामने दलील में कहा – जैसे भगवान राम का जन्म अयोध्या में होना आस्था की बात है वैसे ही तीन तलाक मुसलमानों के लिए आस्था की बात है, इसका किसी के अधिकार या संविधान उल्लंघन से नहीं जुड़ा है।
कांग्रेस के विरोध के बावजूद तीन तलाक पर सर्वोच्च न्यायालय ने संसद को कानून बनाने की सलाह दी और प्रधानमंत्री मोदी ने कानून बनवा कर लोकसभा से पारित भी करवा दिया।

कांग्रेस ने रोहिंग्या मुसलमानों का साथ दिया- सर्वोच्च न्यायालय में रोहिंग्या मुसलामानों  पर दायर की गई जनहित याचिका में कपिल सिब्बल ने रोहिंग्या मुसलमानों को वापस उनके देश भेजे जाने का जबरदस्त विरोध किया औऱ दूसरी तरफ कांग्रेस ने सरकार के इस पक्ष का जमकर विरोध किया कि जम्मू कश्मीर और अन्य राज्यों में गैरकानूनी रूप से रह रहे रोहिंग्या मुसलमान आतंकवादी गतिविधियों में शामिल हैं। कांग्रेस ने सरकार से रोहिंग्या मुसलमानों के आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने के सबूत मांगते हुए इनको बचाने का समर्थन किया।

कांग्रेस ने शाहबानो के लिए सर्वोच्च न्यायालय को भी कुछ नहीं समझा- 1985 में सर्वोच्च न्यायालय ने 62 साल की मुस्लिम महिला को तलाक के बाद गुजारा भत्ता मिलना, उसका अधिकार करार देते हुए, उसके पति को गुजारा भत्ता देने का आदेश दिया था। इस संवैधानिक अधिकार को मुस्लिम समाज के वोटों के दबाव में प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने संसद में कानून पारित करवा करके पलट दिया। जबकि तीन तलाक पर आए सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का प्रधानमंत्री मोदी ने सम्मान किया और न्यायालय के आदेश के मुताबिक कानून संसद से पारित करवाया।

कांग्रेस ने सत्ता पर राज परिवार के समान हमेशा से अपना अधिकार माना है और उसे बनाये रखने के लिए जनता की सेवा से अधिक वोट बटरोने की रणनीति को महत्व दिया है। कांग्रेस आज भी सत्ता के लालच में फंसी हुई है और वोट बटोरने के लिए नरम हिन्दूवादी की छवि बनाने का प्रयास कर रही है, जो कि कांग्रेस के डीएनए से बिल्कुल मेल नहीं खाता है।

LEAVE A REPLY