Home झूठ का पर्दाफाश प्रधानमंत्री मोदी के विरुद्ध Fake खबरों और तस्वीरों से दुष्प्रचार कर रही...

प्रधानमंत्री मोदी के विरुद्ध Fake खबरों और तस्वीरों से दुष्प्रचार कर रही है कांग्रेस, ये रहे सबूत

165
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता जैसे-जैसे बढ़ रही है कांग्रेसी नेता, कार्यकर्ता और उनके समर्थक अपना आपा खोते चले जा रहे हैं। राहुल गांधी के समर्थक अब सोशल मीडिया पर भी दुष्प्रचार फैलाने में लग गए हैं। इन दिनों सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री मोदी और राजनाथ सिंह की दो नकली तस्वीरें वायरल हैं, जो कांग्रेसियों की हताशा का प्रतीक हैं।

दुष्प्रचार पर उतर आई है कांग्रेस !
अल्ट न्यूज पर लगाई गई इस खबर में आप देख सकते हैं कि एक तस्वीर में राजनाथ सिंह के पैरों में गिरे हुए पुलिस इंस्पेक्टर की तस्वीर है, दूसरी तस्वीर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है जिसमें मुंबई हमले का मास्टर माइंड आतंकवादी हाफिज सईद से उन्हें हाथ मिलाते हुए दिखाया जा रहा है, लेकिन इन तस्वीरों की सच्चाई जानेंगें तो आप कांग्रेस के कुकृत्यों को भी सही रूप में देख पाएंगे।

फोटो शॉप से बनाई Fake तस्वीरें
इन तस्वीरों की सच्चाई भी जान लीजिए। दरअसल राजनाथ सिंह के पैरों में गिरे पुलिस इंस्पेक्टर की तस्वीर एक फिल्म की है। इसमें एक राजनेता के कदमों में पुलिस इंस्पेक्टर को गिड़गिड़ाते हुए दिखाया गया है। दूसरी तस्वीर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हाफिज सईद से हाथ मिलाते हुए दिखाया गया है, लेकिन वास्तविक तस्वीर 1 जनवरी 2016 की तस्वीर है जब प्रधानमंत्री मोदी लाहौर गए थे तो उन्होंने तत्कालीन पीएम नवाज शरीफ से हाथ मिलाया था। इन दोनों ही तस्वीरों से फोटो शॉप के जरिये छेड़छाड़ की गई है और सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया गया है।

Fake तस्वीरों का कांग्रेसी कनेक्शन
दोनों ही तस्वीर वायरल करने वालों का नाता कांग्रेस पार्टी से बताया जा रहा है। दरअसल तस्वीर पोस्ट करने वालों में से एक आलमगीर रिजवी फ्रेंड्स ऑफ कांग्रेस वेबसाइट के एनआरआई टीम में सोशल मीडिया वोलेंटियर के रूप में लिस्टेड है। जबकि अरशद चिस्ती के ट्विटर प्रोफाइल में कांग्रेस के आइटी सेल का सदस्य बताया गया है। आलमगीर रिजवी को कई बार बताया गया कि ये तस्वीरें नकली हैं, लेकिन उन्होंने इसे नहीं हटाया। अलबत्ता कांग्रेस के प्रवक्ता संजय झा ने इसे रीट्वीट भी किया है। उन्होंने लिखा है, “अगर यह सही तस्वीर है, तो यह बहुत ज्यादा है। समझ से परे, दंग रह गए।”

हालांकि संजय झा ने इस रीट्वीट के लिए क्षमा मांग ली, लेकिन यह साफ हो गया कि आजकल सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री मोदी और उनके मंत्रिपरिषद के सदस्यों को लेकर कई ऐसी खबरें फैलाई जा रही हैं जो Fake हैं। 

साफ है कि चुनावी मैदान में मात खा चुकी कांग्रेस के पास इतना भी शिष्टाचार नहीं है कि कम से कम अपनी विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए भी ऐसे कृत्य न करे। बहरहाल कांग्रेस के ऐसे कुकृत्यों का परिणाम तो वह स्वयं भुगत रही है, बावजूद इसके अगर सीख न ले तो इनके लिए तो बस यही कहा जा सकता है कि- जगे हुए लोगों को जगाना मुश्किल है!

Image result for पीएम मोदी और राजनाथ सिंह की झूठी तस्वीरें

LEAVE A REPLY