Home समाचार क्या पूरे देश में दंगा करवाना चाहती है कांग्रेस?

क्या पूरे देश में दंगा करवाना चाहती है कांग्रेस?

केरल में यूथ कांग्रेस द्वारा गाय काटने से गुस्से में लोग

527
SHARE

कांग्रेस किस तरह की कुत्सित राजनीति कर सकती है इसका उदाहरण शनिवार को केरल कांग्रेस ने दिखाई है। आरोप है कि कन्नूर में कांग्रेस मुख्यालय के सामने पहले सरेआम गाय को काटा गया, फिर उसका मीट बांटा गया, इतना ही नहीं कांग्रेस कार्यालय के सामने ही बीफ पकाई भी गई। ये सिर्फ इसलिए कि केंद्र की सरकार ने गौवंश की रक्षा के लिए एक कानून लाया है। इस कानून के तहत कत्लखानों के लिए पशु बाजारों में मवेशियों की खरीद-फरोख्त पर प्रतिबंध लगाने लगा दिया गया है। हालांकि सरकार के फैसले का विरोध अन्य पार्टियां भी कर रही हैं लेकन केरल में यूथ कांग्रेस ने जो कृत्य किया है उसने बहुसंख्यक समाज के करोड़ों लोगों की भावना को आहत किया है।

गोवध के विरुद्ध कानून नहीं चाहती कांग्रेस
इतिहास गवाह है कि कांग्रेस ने गौहत्या पर प्रतिबंध की मांग को हमेशा खारिज ही किया है। कांग्रेस के भूतपूर्व प्रधानमंत्रियों जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी ने तो इस मांग को संसद की दहलीज तक फटकने नहीं दिया। अब जब केंद्र की सरकार ने कानून बनाकर इस दिशा में कुछ ठोस करने का प्रयास किया है तो सवाल उठ रहे हैं कि केरल में यूथ कांग्रेस की ये भड़काऊ हरकत क्या देश में दंगा फैलाने की मंशा से की गई है?

भाजपा ने ‘कुकृत्य’ की निंदा की
केरल कांग्रेस के इस कुकृत्य का वीडियो सामने लाया है दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तेजिंदर सिंह बग्गा ने। उन्होंने इस वीडियो को ट्वीट करते हुए लिखा है, ”कांग्रेस ने खाली ये गाय नही काटी बल्कि 100 करोड़ हिन्दुओं को चुनौती दी है. 100 करोड़ हिन्दुओं की को भावनाओं को भड़काने के काम किया है।” बीजेपी कांग्रेस पर आरोप लगा रही है लेकिन कांग्रेस इस प्रकरण पर खामोश है।

वामपंथियों ने विरोध में की बीफ पार्टी
पशुओं की खरीद-फरोख्त से जुड़े केंद्र सरकार के नियम के खिलाफ वामपंथी छात्र संगठन एसएफआई ने केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम में विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के सामने बीफ पकाकर खाया।

ट्वीटर पर ट्रोल हुई कांग्रेस
कांग्रेस की इस हरकत पर लोगों का गुस्सा भड़क गया है। लोगों ने कांग्रेस को गऊ की हत्यारी कहा है। ट्वीटर पर लोग सवाल पूछ रहे हैं कि क्या कांग्रेस को हिंदुओं की भावनाओं का खयाल नहीं है? क्रिकेटर एस श्रीसंत ने भी ट्वीटर पर अपना गुस्सा जाहिरर किया। आइये देखते हैं कुछ ऐसे ही ट्वीट जिसने कांग्रेस का कच्चा चिट्ठा खोला है।

क्या है नया नियम ?
केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने पशु बाजारों में मवेशियों की खरीद-फरोख्त पर प्रतिबंध लगाने का फैसला लिया है। पर्यावरण मंत्रालय ने पशु क्रूरता निरोधक अधिनियम के तहत पशु क्रूरता निरोधक नियम 2017 को अधिसूचित किया है। जिसमें अब मवेशी खरीदने वालों को एक हलफनामा देना होगा जिसमें ये सुनिश्चित करना होगा कि बेचे जाने वाले जानवरों का कत्ल नहीं किया जाएगा। जानवर खरीदने वाले को बताना होगा कि उसे मारने के लिए नहीं बल्कि कृषि उद्देश्य के लिए खरीदा जा रहा है। यानि अब बैल, गाय, भैंस, स्टीयर, बछड़ों और ऊंट को खरीदने से पहले एक अंडरटेकिंग देनी होगी।

देना होगा लिखित घोषणा पत्र
इस अधिसूचना के बाद अब पशु बाजार में समिति के सदस्य व सचिव को यह सुनिश्चित करना होगा कि बाजार में कोई भी व्यक्ति अवयस्क पशुओं को बेचने के लिए बाजार न लेकर आए। साथ में किसी भी व्यक्ति को पशु बाजा में मवेशी लाने की इजाजत तब तक नहीं होगी जब तक कि उसके पास पशु के मालिक द्वारा हस्ताक्षरित यह लिखित घोषणा पत्र न दे।

LEAVE A REPLY