Home समाचार कांग्रेस के नेताओं ने बैंकों की लूट को दी थी छूट

कांग्रेस के नेताओं ने बैंकों की लूट को दी थी छूट

490
SHARE

देश में बैंकों से लोन लेकर वापस ना करने वाले मामलों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इन सारे मामलों में बैंकों से ज्यादातर लोन 2014 के पहले लिए गये हैं, जो आज पारदर्शिता के लिए प्रधानमंत्री मोदी की सरकार द्वारा लागू किये जा रहे कड़े नियमों के कारण सामने आ रहे हैं, लेकिन सभी के मन में यह प्रश्न स्वाभाविक रूप से उठते हैं कि आखिर बैंकों ने इन व्यापारियों को उनकी हैसियत से भी अधिक लोन कैसे दे दिए?

आइये, आपको बताते हैं कि 2014 के पहले कांग्रेस की सरकार में बैंकों से व्यापारियों को लोन कैसे दिलवाये और लोन दिलवाने के बदले में कैसे-कैसे फायदे लिये जाते थे? कांग्रेस के इस पूरे गोरखधंधे को समझने के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल के उस खेल के बारे में बताते हैं, जिसमें उन्होंने दिल्ली में करीब 89 करोड़ रुपये की कीमत वाली जमीन को मात्र 1 लाख रुपये में अपने बेटे, पत्नी रोमिला सिब्बल और अपने नाम कर लिया।

धन के लालच में कांग्रेसियों ने बेची नैतिकता- कपिल सिब्बल का 89 करोड़ रुपये की कीमत वाली जमीन पर कब्जा करना और नेशनल हेराल्ड की देश भर में फैली 2000 करोड़ रुपये से अधिक कीमत वाली जमीन को हड़पने के लिए राहुल गांधी और सोनिया गांधी द्वारा की गई धोखेबाजी का खेल एक जैसा ही है। नेशनल हेराल्ड कंपनी के मालिक कई शेयर धारक थे, जिसे राहुल और सोनिया गांधी ने यंग इंडियन ट्रस्ट बनाकर , 50 लाख रुपये में खरीद लिया। और कांग्रेस पार्टी ने अपने कोष से यंग इंडियन ट्रस्ट को 50 लाख का ऋण भी दे दिया। इस तरह से राहुल गांधी और सोनिया गांधी देश में कई हजार करोड़ रुपये की कीमत वाली जमीन के मुफ्त में मालिक बन गये।

कपिल सिब्बल ने भी दिल्ली में 89 करोड़ रुपये की जमीन खरीदने के लिए, एक कंपनी Grande Castello Private Limited के 100 प्रतिशत शेयर अपने और अपनी पत्नी के नाम खरीद लिये। इन 100 प्रतिशत शेयरों को खरीदने के लिए कपिल सिब्बल ने अपने मित्र और इस कंपनी के मालिक पियूष गोयल को मात्र 1 लाख रुपये दिय़े, जबकि कंपनी जिस जमीन पर खड़ी थी उस जमीन की बाजार में कीमत 89 करोड़ रुपये है।

कंपनी के कागजात बताते है कि यह कंपनी कपिल सिब्बल को 2016 और 2017 के बीच ट्रांसफर की गई। 31 मार्च 2016 को इस कंपनी के शेयर होल्डर्स में कपिल सिब्बल और प्रोमिला सिब्बल का नाम नहीं था, जबकि 31 मार्च 2017 को कपिल सिब्बल और प्रोमिला सिब्बल के नाम पर 50- 50 प्रतिशत शेयर ट्रांसफर कर दिये गये। इस तरह से राहुल गांधी, सोनिया गांधी, कपिल सिब्बल, पी चिंदबंरम या अन्य कांग्रेसी नेताओं ने फर्जी कंपनी बनाकर अपने लालच में नैतिकता बेच डाली।

कपिल सिब्बल का मित्र बैंकों को घूस देकर ऋण लेता- कपिल सिब्बल के परम मित्र पियूष गोयल जिन्होंने दिल्ली में स्थित कंपनी Grande Castello Private Limited को 1 लाख रुपये में बेचा, वह Worlds Window Impex India Pvt. Ltd. कंपनी के भी मालिक हैं। यह कंपनी खनिजों के आयात-निर्यात का धंधा करती है। कपिल सिब्बल के मित्र को सीबीआई ने 2013 में मुबंई स्थित स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के प्रबंधक श्यामल आचार्य को करोड़ों रुपयों रिश्वत देने के मामले मेंं गिरफ्तार किया था।

कपिल सिब्बल के मित्र की कंपनी Worlds Window Impex India Pvt. Ltd. के पास देश में प्राइवेट क्षेत्र का सबसे बड़ा कंनटेनर डिपो था, जिसे कई बैंकों के समूह से 800 करोड़ रुपये का क्रेडिट लिमिट 2013 में दिया जाता था। इसी क्रेडिट लिमिट को 400 करोड़ रुपये बढ़ाने के लिए, कपिल सिब्बल के मित्र पियूष गोयल ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के प्रबंधक को 15-30 लाख रुपये की रिश्वत दी।

दिसबंर 2013 तक बैंक मैनेजर को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की Internal Inquiry Report में बरी कर दिया गया। इस तरह से पियूष गोयल भी रिश्वत के मामले में छूट कर अपना व्यापार करने लगे।

कपिल सिब्बल के मित्र की तरह कांग्रेस राज में कांग्रेसी मित्रों ने बैंकों का बोझ बढ़ाया- कपिल सिब्बल यह स्वीकार कर चुके हैं कि पियूष गोयल उनके पारिवारिक मित्र है और यह भी बात सामने आ चुकी है कि दोनों परिवार एक साथ क्रिकेट विश्व कप देखने और मौज-मस्ती करते थे। 2011 के विश्व कप की एक तस्वीर भी सामने आयी है जिसमें कपिल सिब्बल और गोयल का परिवार मैच का आनंद ले रहा है।

इन नजदिकियों से यह बात किसी को भी समझ में आ सकती है कि कैसे बैंक से 1200 करोड़ रुपये का ऋण लेने के लिए रिश्वत देने के आरोप में कपिल सिब्बल के ये मित्र पियूष गोयल बरी हो गये औऱ बैंकों के ऋण के साथ खेल करते रहे।

यह बात सही है कि आज बैंकों से लोन लेकर वापस ना करने वालों की संख्या बढ़ रही है, लेकिन इसके लिए पूरी तरह से कांग्रेस की सरकार जिम्मेदार है, जिसने अपने व्यापारी मित्रों को फायदा देने और लेने के लिए बैंकों के पारदर्शिता के नियमों की धज्जियां उड़ा दी थी।

LEAVE A REPLY