Home समाचार धर्मांतरण पर नकेल, बोरिया-बिस्तर बांधने में जुटा कम्पैशन इंटरनेशनल

धर्मांतरण पर नकेल, बोरिया-बिस्तर बांधने में जुटा कम्पैशन इंटरनेशनल

816
SHARE

समाज सेवा के नाम पर भारत में धर्म परिवर्तन में लगे अमेरिकी ईसाई संगठन कम्पैशन इंटरनेशनल ने अपना बोरिया-बिस्तर बांधना शुरू कर दिया है। सरकारी सख्ती के बाद कम्पैशन इंटरनेशनल ने कहा है कि वह 15 मार्च तक देश में अपना काम बंद कर देगा। कम्पैशन इंटरनेशनल पर उन एनजीओ को धन देने का आरोप है, जो विदेशी चंदा नियमन कानून (एफसीआरए) के तहत रजिस्टर्ड ही नहीं हैं। अमेरिका और भारत स्थित ईसाई संगठनों के दबाव के बावजूद भारत ने साफ कर दिया है कि नियमों में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा।

भारत सरकार साफ कह चुकी है कि उसकी नीतियों का मकसद किसी खास एनजीओ को निशाना बनाना नहीं, बल्कि उन्हें यह बताना था कि वे देश के नियम-कायदों का पालन करें।

अंग्रेजी अखबार हिंदू ने एक अधिकारी के हवाले से कहा है कि कम्पैशन इंटरनेशनल को देश के कानून का पालन करना चाहिए। विदेशी होने के नाते उन्हें कोई छूट नहीं मिल जाती है। हमने उन्हें साफ कर दिया है कि जैसे वे अमेरिका में नियम-कानून का पालन करते हैं उसी तरह यहां भी पालन करना होगा।

भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने कम्पैशन इंटरनेशनल पर सामाजिक और सांस्कृतिक गतिविधियों की आड़ में ईसाई संगठनों के साथ मिलकर धर्मांतरण कराने का आरोप लगाया है। संगठन पर सक्रिय रूप से धर्म परिवर्तन में शामिल होने का आरोप है।

हालांकि संगठन किसी भी कानून का उल्लंघन नहीं करने का दावा करता है, लेकिन भारत सरकार ने धर्म परिवर्तन के काम में लिप्त होने के पर्याप्त सबूत दिए हैं। अब संगठन ने पिछले हफ्ते जारी अपने पत्र में कहा है कि वह अगले 60 दिनों में देश में अपने कार्यक्रम को बंद कर देगा।

LEAVE A REPLY