Home समाचार कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी महिलाओं की दुश्मन हैं!

कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी महिलाओं की दुश्मन हैं!

574
SHARE

कांग्रेस की राज्यसभा सदस्य रेणुका चौधरी बेलगाम बोलने में माहिर हैं। वह अपनी जोरदार हंसी से राज्यसभा की कार्यवाही को बाधित कर सकती हैं। अपनी इस वाक् शक्ति के कारण उनकी राजनीति में एक अलग पहचान है।
रेणुका चौधरी ने अपनी इसी बुलंद हंसी और आवाज के बल पर 7 फरवरी को राज्यसभा में प्रधानमंत्री मोदी को भाषण देने के दौरान कई बार बाधा डाली, जबकि राज्यसभा के सभापति ने उन्हें कई बार ऐसा न करने की चेतावनी दी, लेकिन वह कहां मानने वाली थीं। इस पर प्रधानमंत्री ने माहौल को गंभीर होने से बचाने के लिए कहा कि, ‘सभापति महोदय, रेणुका जी को मना मत करिए, टीवी पर रामायण खत्म होने के लंबे दिनों बाद ऐसी हंसी सुनने को मिली है।’

अब, रेणुका चौधरी संसद में अपनी अशोभनीय हरकत छुपाने के लिए इस मुद्दे को महिला विरोधी बनाने पर तुली हैं, लेकिन सांसद महोदया यह भूल गई हैं कि महिलाओं की वह सबसे बड़ी विरोधी ही नहीं, दुश्मन हैं। आइए, आपको उन घटनाओं के बारे में बताते हैं, जब रेणुका चौधरी ने महिलाओं के सम्मान के साथ खिलवाड़ किया-

महिला मंत्री को रेणुका ने ‘कोटा मंत्री’ कहा- प्रधानमंत्री मोदी के संसद में किए गये हास्य पर रेणुका चौधरी ने अपनी असली मानसिकता तब दिखा दी जब टीवी पत्रकार द्वारा पूछे गये प्रश्न के उत्तर में उन्होंने केन्द्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल को ‘कोटा मंत्री’ कह डाला। वास्तव में रेणुका चौधरी महिलाओं का तनिक भी सम्मान नहीं करती हैं। कांग्रेस की महिला विरोधी संस्कृति को रेणुका चौधरी ने कई अवसरों पर परोसा है। आइये, आपको वह वीडियो दिखाते हैं,जिसमें उन्होंने अपनी महिला साथी को ‘कोटा मंत्री’ कहकर बेइज्जती की है-

महिला मंत्री को रेणुका ने गाली दी 23 जुलाई 2016 को संसद की कार्यवाही खत्म होने के बाद जब केन्द्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल संसद भवन से बाहर निकल रही थी, तो रेणुका चौधरी ने अपने साथी जयराम रमेश के साथ बाहर आते समय हरसिमरत को ‘कचरा’ की गाली दी। यह सुनकर मंत्री हरसिमरत कौर ने जब इसका विरोध किया तो रेणुका चौधरी ने तब भी अपनी जुबान पर लगाम नहीं लगाई और महिला मंत्री को कहा ‘भाड़ में जाए’। कांग्रेस की पूर्व मंत्री रेणुका चौधरी का महिला साथियों के प्रति यही सम्मान है।  रेणुका चौधरी जैसी कांग्रेस की महिला सांसद, महिलाओं के सम्मान की बात करती है, तो बड़ा ही बेमानी लगता है।

‘रेप तो चलते रहते हैं’ – रेणुका चौधरी महिलाओं का कोई सम्मान नहीं करती हैं। महिलाओं के प्रति उनकी संवेदनशीलता शून्य हैं। जब बुलंदशहर गैंगरेप के बारे में 9 अगस्त 2016 को संसद भवन के बाहर टीवी के पत्रकारों ने उनसे सवाल किया तो उनका जवाब था कि “रेप तो चलते रहते हैं”। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गैंगरेप पर कांग्रेस सरकार में महिला व बाल कल्याण मंत्री के इस बयान से उनकी महिला विरोधी मानसिकता का पता चलता है।

रेणुका के उस बयान का वीडियो भी देखिए-

रेस्त्रां में बच्चे की आया को खड़ा रखा- रेणुका चौधरी ने 31 मई 2016 को सोशल मीडिया पर एक तस्वीर साझा कि जिसमें वह अपने पूरे परिवार के साथ खाना खाने के लिए रेस्त्रां में  बैठी हैं, लेकिन बच्चे की आया चुपचाप उनके बगल में खड़ी है। इस तस्वीर को लेकर रेणुका चौधरी की सोशल मीडिया पर खूब आलोचना हुई। आप भी उस तस्वीर और सोशल मीडिया पर हुई आलोचना को देखिए-


रेणुका चौधरी का व्यक्तिगत हितों को साधने के लिए महिलाओं के सम्मान की दुहाई देना सरासर बेमानी और ढकोसला है। राजनीति करने के लिए महिलाओं के सम्मान के साथ खिलवाड़ करना कांग्रेस का ही डीएनए हो सकता है।

LEAVE A REPLY