Home समाचार मोदी की मुहिम से जुड़ा सीबीएसई, अब सब कुछ कैशलेस

मोदी की मुहिम से जुड़ा सीबीएसई, अब सब कुछ कैशलेस

421
SHARE

कैशलेस इंडिया के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पहल रंग लेती दिख रही है। डिजिटल पेमेन्ट व्यवस्था को अब सीबीएसई ने भी अनिवार्य कर दिया है। बोर्ड ने अपने सभी स्कूलों को जनवरी 2017 से कैशलेस प्रक्रिया अपनाने को कहा है।

सीबीएसई स्कूलों में अब तक बैंकर्स चेक, ड्राफ्ट अथवा नकद लेकर फीस जमा की जाती रही है। नोटबंदी के बाद केंद्र सरकार ने यूजीसी सहित एनआईटी, आईआईएम, केन्द्रीय और राज्य स्तरीय विश्वविद्यालय, कॉलेज को डिजिटल पेमेन्ट सिस्टम अपनाने का निर्देश दिया है। सीबीएसई का कदम इसी दिशानिर्देश के अनुरूप है।

सीबीएसई के अहम दिशा निर्देश

  1. चेक, एटीएम, डेबिट या क्रेडिट कार्ट से लिए जाएंगे फीस
    2. स्टाफ के बैंक अकाउन्ट में जाया करेगी सैलरी
    3. कॉन्ट्रैक्चुअल वर्कर्स को भी ई-पेमेन्ट से भुगतान
    4. अभिभावकों के लिए चलाया जाएगा जागरुकता कार्यक्रम
    5. मार्कशीट व दूसरे दस्तावेज भी डिजिटल होंगे

सीबीएसई ने कहा है कि स्कूल प्रबंधन भविष्य में सभी शुल्क चेक, एटीएम, डेबिट अथवा क्रेडिट कार्ड से लेंगे। अनुबंध पर काम करने वाले कामगारों को भी नकद के बजाए ई-पेमेन्ट के तहत भुगतान किया जाएगा। सीबीएसई ने कहा है कि स्कूल के स्टाफ की सैलरी उनके बैंक अकाउंट में ट्रांसफर किया जाना चाहिए। इसके अलावा छात्रों से किसी भी तरह की फीस भी ऑनलाइन ही ली जाए।

स्कूलों को ये निर्देश भी दिए गये हैं कि अभिभावकों के लिए जागरुकता कार्यक्रम चलाएं।

अब सीबीएसई के छात्रों की मार्कशीट, सर्टिफिकेट और दूसरे दस्तावेज भी डिजिटल रूप में मिलेंगे। इसकी तैयारी में सीबीएसई जुटा हुआ है। ये दस्तावेज 24 घंटे ऑनलाइन उपलब्ध रहेंगे। विद्यार्थी डिजिटल या ई-पेमेन्ट से कभी भी दस्तावेज का प्रिंट ले सकेंगे।

इसके अलावा पंजीकृत विद्यार्थियों के साथ-साथ दसवीं और बारहवीं में बैठने वाले विद्यार्थियों का ब्योरा भी सर्वर पर मौजूद रहेगा। स्कूलों की भौगोलिक स्थिति, फीस, सिलेबस की किताबें, प्रैक्टिकल परीक्षा और मुख्य परीक्षकों का ब्योरा भी ऑनलाइन मिलेगा। इसके साथ ही स्कूलों के ई-मेल, मोबाइल, बेसिक फोन नम्बर और दूसरी सूचनाएं भी नेट पर मौजूद रहेंगी।

 

LEAVE A REPLY