Home समाचार नोटबंदी को लेकर रडार पर बैंक अधिकारी

नोटबंदी को लेकर रडार पर बैंक अधिकारी

388
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश से कालेधन को जड़ से मिटा देने की मुहिम में लगे हैं। लेकिन कुछ बैंक अधिकारी इस अभियान में पलीता लगाने में जुटे हैं। ये अधिकारी क्षणिक फायदे के लिए देश के खिलाफ साजिश रच रहे हैं, देशद्रोह कर रहे हैं। लेकिन मोदी सरकार ने जयचंद बने इन लोगों के खिलाफ सख्त कदम उठाते हुए यह अहसास करा दिया है कि इस यज्ञ में विघ्न डालने वालों पर कोई रहम नहीं होगा।

नोटबंदी के बाद से पुलिस और आयकर विभाग की कार्रवाई में अब तक करोड़ों रुपये पकड़े जा चुके हैं. सैकड़ों करोड़ की नकदी और आभूषण जब्त किए गए हैं। इस सिलसिले में दिल्ली से एक्सिस बैंक के दो मैनेजर गिरफ्तार किए गए। एक्सिस बैंक ने भी अपने 19 कर्मचारियों पर कार्रवाई की। नोटबंदी के बाद से कोलकाता में केनरा बैंक के डिप्टी मैनेजर, राजस्थान के अलवर में कोऑपरेटिव बैंक मैनेजर, पंजाब के बठिंडा में ओबीसी बैंक के मैनेजर और कैशियर, बैंगलुरू में सेंट्रल बैंक के मैनेजर, हैदराबाद में सिंडिकेट बैंक के दो कर्मचारी गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

बिजनेस स्टैंडर्ड अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, आयकर विभाग ने 400 से ज्यादा मामलों में जांच की और 130 करोड़ नकदी और ज्वेलरी का खुलासा किया। करीब 2000 करोड़ की अघोषित संपत्ति का भी खुलासा हुआ। आयकर विभाग के एक आंकड़े के मुताबिक, अब तक पिछले 20 दिनों में आयकर विभाग ने छापेमारी से 200 करोड़ से ज्यादा के नए नोट जब्त किए।

कहां-कहां पड़े छापे जो बनी सुर्खियां 

12 दिसंबर को जयपर के सहकारी बैंक से मिले 1 करोड़ 38 लाख।

10 दिसंबर को दक्षिण-पूर्व दिल्ली के ग्रेटर कैलाश इलाके में रोहित टंडन के लॉ फर्म में छापेमारी के दौरान लगभग 13 करोड़ 50 लाख रुपए की नकदी बरामद हुई। इनमें से ढाई करोड़ रुपए नए नोट हैं। आयकर विभाग ने इसमें तीसरी बार छापेमारी की है। कर्नाटक के चित्रदुर्ग से 5.7 करोड़ रुपए के नए नोट, 90 लाख रुपए पुराने नोट और 32 किलो सोने के बिस्कुट व आभूषण बाथरूम में बनाए गए तहखाने से मिला। तमिलनाडु के वेल्लोर में 24 करोड़ के नए नोट पकड़े गए। हैदराबाद में वरिष्ठ डाकघर अधीक्षक के पास से सीबीआई ने 65 लाख रुपए के नए नोट बरामद किए।

9 दिसंबर को मुंबई के दादर में 85 लाख के साथ दो लोग हुए गिरफ्तार हुए। गुजरात के सूरत से 76 लाख रुपये के नए नोट के साथ चार लोग गिरफ्तार हुए। हरियाणा के गुड़गांव से भी 17 लाख रुपए के नए नोट मिले। तेलंगाना में 2000 के नए नोटों में 94 लाख कैश जब्त किया गया.

8 दिसंबर को चेन्नई में आयकर अधिकारियों ने एक बिजनेसमैंन के यहां छापे मारे। वह तिरुपति मंदिर का बोर्ड ट्रस्टी भी है। इसके अलावा दो और बिजनसमैन के यहां छापे पड़े। यहां से 106 करोड़ रुपए कैश और 127 किलो सोना मिला। इनमें 10 करोड़ रुपए नए नोट थे। मध्य प्रदेश के होशंगाबाद से 46 लाख रुपये के नए नोट मिले।

7 दिसंबर को गोवा से डेढ़ करोड़ रुपये तो कर्नाटक के उडुप्पी से 71 लाख रुपये बरामद हुए।

30 नवंबर को बैंगलुरू में कार से दो व्यक्ति के पास से 4 करोड़ रुपए के नए नोट बरामद हुए।

29 नवंबर को तमिलनाडु के कोयंबटूर से 1 करोड़ रुपए मिले।

23 नवंबर को गुजरात से 10 लाख रुपए मिले।

20 नवंबर को गुजरात के ही सांबरकांठा में एक कार से 8 लाख रुपये के नए नोट मिले।

सरकार को आशंका थी कि मौका मिलते ही लोग काले को सफेद करने से नहीं चुकेंगे। बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री ने 500 से अधिक बैंक की शाखाओं का स्टिंग कराया है। 400 शाखाओं की सीडी वित्त मंत्रालय के पास पहुंच चुका है। इन सीडी में काला सफेद करने वालों के खिलाफ पुख्ता सबूत है। इन सीडी में महानगरों से लेकर छोटे शहरों के भी बैंकों का स्टिंग किया गया है।

LEAVE A REPLY