Home नरेंद्र मोदी विशेष ‘फिट इंडिया मूवमेंट’ चलाएं नौजवान- प्रधानमंत्री मोदी

‘फिट इंडिया मूवमेंट’ चलाएं नौजवान- प्रधानमंत्री मोदी

535
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम के 42वें एपिसोड में प्रिवेंटिव हेल्थ-केयर और योग पर बहुत विस्तार से बात की है। उन्होंने देश के युवाओं से फिट इंडिया मूवमेंट चलाने का आह्वान भी किया है। ‘स्वच्छ भारत’ और ‘स्वस्थ भारत’ को एक-दूसरे का पूरक बताते हुए उन्होंने कहा है, कि ” हम सब ने एक देश के रूप में बीड़ा उठाया और इसका परिणाम यह आया कि पिछले लगभग 4 सालों में सैनिटेशन कवरेज दोगुना होकर करीब-करीब 80 प्रतिशत हो चुका है। इसके अलावा, देश भर में हेल्थ वेलनेस सेंटर्स बनाने की दिशा में व्यापक स्तर पर काम हो रहा है।”

स्वास्थ्य को सस्ता और सुलभ बनाने के लिए व्यापक प्रयास- प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि देश आज स्वास्थ्य के क्षेत्र में कंवेंशनल एप्रोच से आगे बढ़ चुका है और प्रिवेंटिव हेल्थ के साथ-साथ अफॉर्डेबल हेल्थ के ऊपर जोर दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि देश में स्वास्थ्य से जुड़ा हर काम जहां पहले सिर्फ स्वास्थ्य मंत्रालय की जिम्मेदारी होती थी, लेकिन अब सारे विभाग और मंत्रालय यानि स्वच्छता-मंत्रालय, आयुष-मंत्रालय, रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय या महिला एवं बाल विकास मंत्रालय सब मिलकर देख रहे हैं। उन्होंने कहा है, “जीवन स्वस्थ हो इसके लिए पहली आवश्यकता है – स्वच्छता।” उन्होंने ये भी कहा कि “हेल्थ-केयर एक्सेसबल और अफॉर्डेबल भी हो, जन सामान्य के लिए सस्ता और सुलभ हो – इसके लिए भी व्यापक स्तर पर प्रयास हो रहे हैं।” श्री नरेन्द्र मोदी ने ये बात भी कही कि प्रिवेंटिव हेल्थ-केयर सस्ता भी है और आसान भी। उन्होंने कहा कि, “हम लोग, प्रिवेंटिव हेल्थ-केयर के लिए जितना जागरूक होंगें, उतना व्यक्ति को भी, परिवार को भी और समाज को भी लाभ होगा।”

जरूरतमंदों को जन-औषधि केंद्रों की जानकारी दें- प्रधानमंत्री मोदी
प्रधानमंत्री मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम के श्रोताओं से अपील की है कि जरूरतमंद लोगों को जन-औषधि केंद्रों की जानकारी दें, जिससे उनकी दवाइयों का खर्चा कम हो जाए। इस तरह से लोग एक बड़ी सेवा कर सकते हैं। प्रधानमंत्री ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में उठाए गए कदमों के बारे में बताया कि, “आज देश-भर में 3 हजार से अधिक जन-औषधि केंद्र खोले गए हैं, जहां 800 से ज्यादा दवाइयां कम कीमत पर उपलब्ध करायी जा रही हैं; और भी नए केंद्र खोले जा रहे हैं। हृदय-रोगियों के लिए हार्ट स्टेंट की कीमत 85% तक कम कर दी गई है। नी ट्रांसप्लांट्स की कीमतों को भी नियंत्रित कर 50 से 70% तक कम कर दिया गया है।” इसके अलावा ‘आयुष्मान भारत योजना’ के तहत लगभग 10 करोड़ परिवारों के 5 लाख रुपये तक के इलाज का सालाना खर्च भारत सरकार और बीमा कंपनी उठाएगी। पीएम मोदी ने ये भी बताया कि देश के 479 मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की सीटों की संख्या बढ़ाकर लगभग 68 हजार कर दी गई हैं। यही नहीं विभिन्न राज्यों में एम्स खोले जा रहे हैं और हर तीन जिलों में पर एक नया मेडिकल कॉलेज खोला जाना है। उन्होंने 2025 तक देश को टी.बी. से मुक्त बनाने के लिए सामूहिक प्रयास पर भी बल दिया।

फिटनेस और वेलनेस दोनों की गारंटी देता है योग- प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि, “प्रिवेंटिव हेल्थ-केयर के रूप में योग ने नये सिरे से दुनिया-भर में अपनी पहचान बनाई है। योग फिटनेस और वेलनेस दोनों की गारंटी देता है। यह हम सबके कमिटमेंट का ही परिणाम है, कि योग आज एक मास मूवमेंट बन चुका है, घर-घर पहुंच चुका है। पिछले तीन अंतरराष्ट्रीय योग दिवसों पर देश और दुनिया के हर जगह, लोगों ने काफी उत्साह से इसमें भाग लिया। इस बार भी हमें सुनिश्चित करना है कि हम स्वयं योग करें और पूरे परिवार, मित्रों, सभी को, योग के लिए अभी से प्रेरित करें।” उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि बच्चों, युवाओं, वरिष्ठ नागरिकों और महिलाओं में योग को नए और रोचक तरीकों से लोकप्रिय बनाएं। उन्होंने ये भी कहा कि वे योग के टीचर नहीं, उसके प्रैक्टिसनर जरूर हैं, लेकिन कुछ लोगों ने क्रिएटिविटी से उन्हें योग टीचर के रूप में पेश किया है।

LEAVE A REPLY