Home समाचार स्वतंत्रता दिवस समारोह में पीएम मोदी की भाव भंगिमाएं

स्वतंत्रता दिवस समारोह में पीएम मोदी की भाव भंगिमाएं

281
SHARE

स्वतंत्रता दिवस समारोह में सम्मिलित हुए बच्चे उस समय गहरे उत्साह और प्रसन्नता से भर उठे, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना सुरक्षा-घेरा तोड़कर उनके पास जा पहुंचे। सारे बच्चों में उनसे बात करने, हाथ मिलाने की होड़-सी लग गई और प्रधानमंत्री भी उनके इस उल्लास में सहर्ष शामिल हो गए। 

प्रधानमंत्री ने आज स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में सम्मिलित होने से पूर्व महात्मा गांधी की समाधि पर जाकर पुष्प अर्पित करके प्रार्थना की। उसके बाद राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में उन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक की भी चर्चा की। उनके इस कदम से यह साफ संकेत मिलता है कि अहिंसक होने का अर्थ कायर होना नहीं होता। अपने राष्ट्र की सुरक्षा के लिए यदि आवश्यक हुआ तो हम भारतवासी हर सीमा को लांघना जानते हैं।

प्रधानमंत्री ने इस बात पर बल दिया कि महिलाएं समाज की महत्वपूर्ण इकाई हैं। चाहे परिवार हो अथवा अर्थव्यवस्था, वे जहां भी हैं, उनकी प्रतिबद्धता अतुलनीय है, इसीलिए उन्होंने मंत्र दिया, सशक्त नारी, सशक्त भारत। ऐसा स्वाभाविक भी है, क्योंकि अपनी आधी आबादी की उपेक्षा करके कोई भी देश पूर्ण विकसित नहीं हो सकता।

1 जनवरी, 2018 को प्रधानमंत्री ने उन युवाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण बताया, जो इक्कीसवीं सदी में पैदा हुए हैं, क्योंकि तब वे अठारह वर्ष के हो जाएंगे। यह वह वर्ष होगा, जब वे अपने जीवन के बड़े और अहम फैसले स्वयं ले सकेंगे। वही हमारे भारत के भाग्य-विधाता होंगे।

 

LEAVE A REPLY